PM मोदी ने कहा, हम मक्खन पर लकीर नहीं, पत्थर पर लकीर खींचने वाले हैं

0
131

नई दिल्ली: देश के 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आज लालकिले पर आयोजित मुख्य समारोह में राजनीतिक दलों के प्रमुख नेताओं, सरकार के मंत्रियों, सेना के शीर्ष अधिकारियों, राजनयिकों और दूसरे क्षेत्रों के प्रमुख लोगों ने शिकरत की. PM मोदी के लालकिले की प्राचीर से संबोधन के दौरान कहा कि जब हौसले बुलंद होते हैं, देश के लिए कुछ करने का इरादा होता है तो बेनामी संपत्ति का कानून भी लागू होता है. हम कड़े फैसले लेने का सामर्थ्य रखते हैं क्योंकि देशहित हमारे लिए सर्वोपरी है. हम मक्खन पर लकीर नहीं, पत्थर पर लकीर खींचने वाले हैं. इस मौके पर पीएम मोदी ने 25 सितंबर को, पंडित दीन दयाल की जयंती पर, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना शुरू कर दिया जाएगा.

अहम जानकारियां :
देश वही है, धरती वही है, हवाएं वही है, आसमान वही है, समुद्र वही है, सरकारी दफ्तर वही हैं, निर्णय प्रक्रिया करने वाले लोग भी वही हैं लेकिन बीते चार साल में देश बदलाव महसूस कर रहा है. देश एक नई चेतना, नया उमंग, नई सिद्धि, नए संकल्प, नए पुरषार्थ के साथ आगे बढ़ रहा है.

सोया हुआ हाथी (भारत) जग चुका है, चल पड़ा है और अब दुनिया कह रही है कि आने वाले तीस साल तक विश्व की अर्थव्यवस्था को भारत गति देने वाला है. ऐसा विश्वास आज भारत के लिए पैदा हुआ है. आज वैश्विक मंच पर भारत की साख बढ़ी है. दुनिया में भारत की बात सुनी जा रही है.

2014 से पहले दुनिया की गणमान्य संस्थाएं और अर्थशास्त्री कभी हमारे देश के लिए क्या कहा करते थे, वो भी एक जमाना था कि हिंदुस्तानी की इकॉनोमी बड़ी रिस्क से भरी है वही लोग आज हमारे रिफॉर्म की तारीफ कर रहे हैं. अब भारत को ‘रीफॉर्म, परफॉर्म, ट्रांसफॉर्म’ की धरती के रूप में देखा जाता है. हम रिकॉर्ड आर्थिक वृद्धि दर्ज करने जा रहे हैं.

हमारा देश अंतरिक्ष की दुनिया में प्रगति कर रहा है. हमारे देश ने संकल्प लिया है कि 2022 या उससे पहले जब आजादी का 75 साल पूरा होगा, तब मां भारती का कोई संतान अंतरिक्ष में जाएगा. हाथ में तिरंगा लेकर जाएगा और आजादी के 75 साल से पहले इस सपने को पूरा करना है. हम मानव सहित गगन यान लेकर चलेंगे और यह गगनयान जब अंतरिक्ष में हिंदुस्तानी लेकर जाएगा, तब विश्व के अंदर चौथे देश बन जाएंगे, जो मानव को अंतरिक्ष में पहुंचाने वाले बन जाएंगे. मैं देश के वैज्ञानिकों को बधाई देता हूं.

हमारे देश के नौजवान ने नेचर ऑफ जॉब को पूरी तरह से बदल दिया है. स्टार्टअप में नौजवान देश को नई ऊंचाइयों पर ले जा रहा है. 13 करोड़ मुद्रा लोन बड़ी बात होती है. उसमें भी 4 करोड़ वे नौजवान हैं, जो पहली बार कहीं से लोन लिया है और अब अपने पैरों पर खड़ा हो रहा हैं. आज डिजिटल इंडिया के सपने को पूरा करने के लिए देश की बेटियां और बेटे आगे बढ़ रहे हैं और सूचना तकनीक का भरपूर उपयोग कर रहे हैं.

खेल के मैदानों में नॉर्थ ईस्ट की दमक नजर आ रही है. नॉर्थ ईस्ट से यह खबर आ रही है कि बिजली गांव में आ गई और पूरा गांव नाचता रहा. नॉर्थ ईस्ट से विकास के काम की खबरें आ रही हैं. आज नॉर्थ ईस्ट के जवान बीपीओ खोल रहे हैं. नॉर्थ ईस्ट स्पॉट यूनिवर्सिटी की मेजबानी कर रहा है. नॉर्थ ईस्ट को एक समय लगता था कि दिल्ली दूर है. मगर मैंने उनके दरवाजे पर दिल्ली को लाकर खड़ा कर दिया है.

भारत का स्वागत करने के लिए दुनिया लालायित है. भारत के पासपोर्ट की ताकत बढ़ गई है. दुनिया के किसी कोने में अगर कोई हिंदुस्तानी संकट में हैं, तो उसे पता है कि उसके पीछे देश है जो उसे संकट से निकाल लेगा.

हमारी सोच ‘बीज से बाज़ार तक’ की है. हम कृषि क्षेत्र में अभूतपूर्व सुधार कर रहे हैं. हमारा लक्ष्य 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का है.

MSP बढ़ाने की सालों से लम्बित मांग को हमारी सरकार ने पूरा किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here