नरक को करो आज बाहर, मां लक्ष्मी घर आएंगी, ऐसे जलाएं यम का दीपक

0
111

नरक चतुर्दशी यानी छोटी दिवाली. दिवाली से एक दिन पहले नरक चतुर्दशी का पर्व लक्ष्मी जी के स्वागत का पर्व है। इसको नरक चतुर्दशी के साथ ही छोटी दिवाली और रूप चतुर्दशी भी कहते हैं। इस दिन घर के नरक यानी गंदगी को दूर किया जाता है। जहां सुंदर और स्वच्छ का प्रवास होता है, वहां लक्ष्मी जी अपने कुल के साथ आगमन करती हैं। उनके साथ, श्री नारायण, गणपति, शंकर जी, समस्त देवियां, कुबेर, नक्षत्र और नवग्रह होते हैं।

जानें पूजन का शुभ मुहूर्त और विधि

प्रात: 6 नवंबर को 9.32 से 11.45 बजे तक

दोपहर- 12.05 से 1.22 बजे तक

सायंकाल- 5.40 से 07.05 *बजे तक

यम का दीपक तभी जलाएं, जब घर के सभी लोग आ जाएं …

देवी लक्ष्मी धन की प्रतीक हैं। धन का अर्थ केवल पैसा नहीं होता। तन-मन की स्वच्छता और स्वस्थता भी धन का ही कारक हैं। धन और धान्य की देवी लक्ष्मी जी को स्वच्छता अतिप्रिय है। धन के नौ प्रकार बताए गए हैं। प्रकृति, पर्यावरण, गोधन, धातु, तन, मन, आरोग्यता, सुख, शांति समृद्धि भी धन कहे गए हैं।.

लंबी उम्र के लिए सभी नरक चतुर्दशी के दिन घर के बाहर यम का दीपक जलाने की परंपरा है। नरक चतुर्दशी की रात जब घर के सभी सदस्य आ जाते हैं तो गृह स्वामी यम के नाम का दीपक जलाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here