मुंबई : भोजपुरी फिल्मों में अश्लीलता का विरोध, कड़ा कानून लाने की मांग

0
91

मुंबई: भोजपुरी फिल्मों में बढ़ती अश्लीलता, द्विअर्थी गीत और संवादों का विरोध शुरू हो गया है. इसको लेकर पूर्वांचल विकास प्रतिष्ठान ने नाराजगी जाहिर की है. मुंबई में हुई एक सभा में भोजपुरी इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में छाई अश्लीलता को रोकने के लिए महाराष्ट्र डांस बार एक्ट की तरह एक कड़ा कानून लाने की मांग की गई.

पूर्वांचल विकास प्रतिष्ठान के सर्वेश सिंह ने बताया कि मुंबई के मलाड उपनगरीय इलाके के नवजीवन हाई स्कूल में एक सभा का आयोजन किया गया. पूर्वांचल विकास प्रतिष्ठान ने यह सभा बुलाई थी, जो कि पूर्वांचल में आर्थिक-औद्योगिक विकास और सांस्कृतिक बदलाव लाने के काम में जुटा है.

सभा में फैसला लिया गया कि उत्तर प्रदेश और बिहार सहित झारखंड के मुख्यमंत्री से मांग की जाएगी कि भोजपुरी इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में छाई अश्लीलता को रोकने के लिए महाराष्ट्र डांस बार एक्ट की तरह एक कड़ा कानून लाया जाए.

उन्होंने बताया कि सभा में मुख्यमंत्रियों को दिए जाने वाले कड़ा कानून लाने के प्रतिवेदन पर विचार किया गया. सभा में जानकारी दी गई कि अश्लीलता को रोकने के लिए पूर्वांचल में जनसभाएं आयोजित करके ज्ञापन पर 10 लाख से अधिक लोगों के दस्तखत कराने का काम शुरू कर दिया गया है. अगले तीन माह में 20 से अधिक जनसभाएं आयोजित की जाएंगी. सेंसर बोर्ड से भी मांग की जा रही है कि भोजपुरी फिल्मों के लिए सेंसर के नियम कड़े किए जाएं और ‘ए’ सर्टिफिकेट की फ़िल्में पास न की जाएं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here