दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर मोदी का रोड शो, निशाने पर रहा 2019 का चुनाव

0
58

प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को दिल्ली से मेरठ को जोड़ने वाले 14 लेन के एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन किया. इसके बाद उन्होंने केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के साथ रोड शो निकाला. यह रोड शो निजामुद्दीन से लेकर अक्षरधाम तक निकाला गया.

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के दौरान पूरे इलाके में लगाए गए पोस्टरों में BJP का 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर नारा साफ-साफ देखने को मिला. केंद्र में मोदी सरकार को चार साल पूरे हो गए हैं और पीएम मोदी अपने कामकाज का रिपोर्ट कार्ड पेश कर रहे हैं. शनिवार को उन्होंने ओडिशा के कटक से अपने रिपोर्ट कार्ड पेश करने की शुरुआत की.

जब केंद्रीय मंत्री पियूष गोयल से पूछा गया कि क्या इस एक्सप्रेस-वे के जरिए रोड शो करके बीजेपी साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव पर दिल्ली और पश्चिम यूपी में निशाना साध रही है, तो उन्होंने कहा कि अगर अच्छी नियत से कोई विकास का काम किया जाएगा, तो उसका चुनावी फायदा होना स्वाभाविक है.

बीजेपी नेता विजय गोयल ने एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन पर आजतक से बातचीत में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने तपती गर्मी में रोड शो करते हुए यह संदेश दिया है कि बीजेपी अच्छी नियत के साथ सबका विकास कर रही है.

उन्होंने कहा कि इस फ्लाईओवर के बन जाने से दिल्ली समेत पश्चिमी यूपी के लोगों को फायदा मिलेगा. इससे न सिर्फ सड़कों पर ट्रैफिक खत्म होगा, बल्कि बड़ी तादाद में ईंधन की खपत भी रोकी जा सकेगी. दिल्ली से लेकर मेरठ तक बनाए गए इस एक्सप्रेस-वे के जरिए दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद के लोगों को पीक टाइम में भी सड़कों पर ट्रैफिक से काफी हद तक निजात मिलेगी.

माना यह भी जा रहा है कि जिस तरीके से बीजेपी अब 2019 के चुनाव को लेकर प्रचार के मूड में आ गई है, ऐसे में तमाम प्रोजेक्ट के उद्घाटन को भी बीजेपी प्रचार का जरिया बनाने से नहीं चूकेगी. केंद्र में मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर रिपोर्ट कार्ड पेश किया जा रहा है. शनिवार को पीएम मोदीऔर कई केंद्रीय मंत्रियों ने मोदी सरकार के चार साल का ब्योरा पेश किया.

साल 2019 के चुनावों में बीजेपी मोदी सरकार के कामकाज को लेकर जनता के बीच जाने की पूरी तैयारी में है. वहीं, एकजुट विपक्ष बीजेपी के लिए चुनौती पेश करता दिख रहा है.

कर्नाटक चुनाव के बाद वहां के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में जिस तरह विपक्षी दिग्गज एकजुट हुए थे, उससे बीजेपी के सामने इनसे निपटने की कड़ी चुनौती दिख रही है. हालांकि यह तो वक्त ही बताएगा कि पीएम मोदी और बीजेपी अपनी रणनीति में कितना कामयाब होते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here