BSEB Bihar 12th Result 2018: शिक्षा मंत्री ने कहा, टॉपर्स को लेकर इस बार नहीं उठेंगे सवाल

0
117

बिहार बोर्ड की बारहवीं की परीक्षा का आज रिजल्ट जारी होगा। इससे पहले राज्य के शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने कहा है कि टॉपर्स को लेकर इस बार कोई सवाल नहीं उठेगा।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की इंटर परीक्षा का रिजल्ट इस बार पिछले साल से काफी बेहतर होगा। पिछले साल कम रिजल्ट के कारण अभिभावकों और परीक्षार्थियों ने काफी हंगामा किया था। इस साल उसकी नौबत नहीं आएगी।

मंगलवार को शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने ये बातें कही। साथ ही उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों ने काफी मेहनत से परीक्षा दी है। इसका प्रभाव रिजल्ट के पासिंग परसेंटेज में इजाफा के रूप में दिखा है। टॉपर्स को लेकर भी इस बार सवाल नहीं उठेंगे। बोर्ड ने हर बिंदु पर जांच कर रिजल्ट तैयार किया है।

मंत्री ने कहा कि बोर्ड ने कदाचारमुक्त परीक्षा और मूल्यांकन के लिए पिछले दो सालों में कई सख्त कदम उठाए हैं। इसका लाभ इस बार के रिजल्ट में देखने को मिलेगा। इस बार की परीक्षा में आधे से अधिक परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए हैं।

पिछले साल मात्र 35 फीसद रहा था रिजल्ट

पिछले साल इंटर में ओवरऑल 35 फीसद रिजल्ट रहा था। आट्र्स में 37.13 फीसद परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए थे। 5,33,915 में 1,24,389 छात्रा और 73,861 छात्र उत्तीर्ण हुए थे। साइंस में 6,46,231 परीक्षार्थी शामिल हुए थे। इसमें 1,42,445 छात्र और 52,147 छात्रा उत्तीर्ण हुई थीं। कॉमर्स का रिजल्ट सबसे बेहतर रहा था। 73.76 फीसद परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए थे। परीक्षा में 60,022 विद्यार्थी शामिल हुए थे। इसमें 28,317 छात्र और 15,956 छात्राओं को सफलता मिली थी।

इस बार साइंस संकाय में सबसे अधिक परीक्षार्थी

इंटर वार्षिक परीक्षा-2018 में शामिल होने के लिए 12,07,986 छात्र-छात्राओं ने रजिस्ट्रेशन कराया था। इसमें कला संकाय में 4,55,971, साइंस में 6,99,851, कॉमर्स में 51,325 तथा वाकेशनल में 831 परीक्षार्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया था।

इस बार की परीक्षा नए पैटर्न से छह से 16 फरवरी तक सूबे के 1384 केंद्रों पर ली गई थी। पटना में 66,419 परीक्षार्थियों के लिए 82 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इस बार 50 फीसद प्रश्न बहुविकल्पीय वस्तुनिष्ठ थे। जिनका जवाब ओएमआर शीट पर देना था।

इसके अतिरिक्त 30 फीसद प्रश्न दो-दो अंक के लघु उत्तरीय और 20 फीसद अंक के दीर्घउत्तरीय प्रश्न पूछे गए थे। प्रश्न पत्र वायरल नहीं हो इसके लिए केंद्र पर मौजूद किसी भी अधिकारी और कर्मी को स्मार्ट फोन ले जाने पर पाबंदी थी।

38 फीसद पुराने अभ्यर्थियों ने दी थी परीक्षा 

इंटर वार्षिक परीक्षा में 12,07,986 परीक्षार्थी शामिल हुए थे। परीक्षा में 7,19,848 छात्र और 4,88,130 छात्राएं शामिल होने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था। इसमें 7,46,899 परीक्षार्थी नए थे, जबकि शेष 38 फीसद परीक्षार्थी पूर्व की परीक्षाओं में शामिल हो चुके थे। पटना जिले में 37,610 छात्र और 28,809 छात्राएं परीक्षा में शामिल हुई थीं।

परीक्षा के दौरान तीन वीक्षक और 25 मुन्नाभाई पर एफआइआर दर्ज की गई थी।  985 छात्र-छात्राएं निष्कासित की गई थीं। गया जिले से सबसे अधिक 106 और पटना से 26 परीक्षार्थी निष्कासित किए गए थे। दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने के आरोप में सबसे अधिक नवादा से छह परीक्षार्थी गिरफ्तार किए गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here