Published On: Tue, Apr 10th, 2018

100 सालों में सैन मंदिर पर पहली बार महिलाओं ने किया ध्वजारोहण

Share This
Tags

जोधपुर सैन समाज के आराध्य संत शिरोमणि सैन महाराज का 718वां जन्मोत्सव सैन समाज द्वारा श्रद्धा एवं हर्षोल्लास से मनाया जा रहा है। सात दिवसीय समारोह अंतर्गत सोमवार को सैन मंदिर गुलाबसागर पर ध्वजारोहण कार्यक्रम हुआ, जिसमें सैनाचार्य स्वामी अचलानंद गिरि महाराज व झोंपड़ी वाले बालाजी मंदिर के उपासक शंकरलाल पंवार के सान्निध्य में पिछले 100 वर्षों में पहली बार महिलाओं ने मंदिर के शिखर पर ध्वजा चढ़ाई।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सैनाचार्य ने नारी शक्ति को पहली बार समारोह की बागड़ोर संभालने पर बधाई दी और कार्यक्रम के सफलता की कामना की। सैन जयंती महोत्सव समिति की अध्यक्ष सुमित्रा भाटी व प्रमुख संयोजक सुमन सैन ने बताया कि सैन महाराज व नारायणी के जैकारों के साथ बैंड-बाजों पर नाचते गाते श्रद्धालुओं की उपस्थिति में मंदिर के शिखर पर मातृ शक्ति की ओर से ध्वजारोहण किया गया। इस अवसर पर प्रभावती सोलीवाल, विजयलक्ष्मी परिहार, कुसुम सैन मधु सैन, उषा पंवार, चंद्रकांता सैन, सीमा पंवार, अनिता सैन, गुलाब सोलंकी, मंजू चांगिल आदि महिलाएं मौजूद रहे,

आज सैकड़ों की तादात में पुरुष और महिलाएं कर रहे हैं रक्तदान, रक्तदान शिविर में जोधपुर के महापौर घनश्याम ओझा ने  संबोधित करते हुए कहा कि सेन समाज हमेशा से ही लोगों को प्रेरणा देता आया है और इस पावन पर्व पर प्लास्टिक का उपयोग ना करने का संकल्प दिलाया, वही सेनाचार्य अचलानंद गिरी महाराज ने समाज में व्याप्त कुरीतियों को मिटाने , नशा मुक्ति ,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ ,पर्यावरण बचाओ,  जो व्यक्ति आज धर्म जाति के नाम से आपस में लड़ रहे हैं उन्हें एक होकर समाज सेवा में लगना चाहिए , ना कि कोई समाज जाति धर्म के नाम पर आपस मे लड़ाई झगड़ा करें।

प्रमुख संयोजक सुमन सैन के नेतृत्व में आज  मंगलवार को सैन सामुदायिक भवन, भगत की कोठी में रक्तदान व चिकित्सा शिविर का आयोजन किया जा रहा है  जिसमें सैकड़ों की तादात में  पुरुष व महिला  रक्तदान कर  पुण्य कमा रहे हैं

वहीं बुधवार को सैन मंदिर गुलाबसागर पर महिलाओं के लिए मेहंदी, रंगोली, कविता पाठ सहित अन्य प्रतियोगिताएं होंगी। 12 अप्रैल को फूलमंडली, भजन संध्या होगी, वहीं 13 अप्रैल को सुबह हवन व महाआरती के साथ दोपहर 2 बजे शोभायात्रा निकाली जाएगी। गौरतलब है कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान से प्रेरित होकर सैन समाज के मौजिज लोगों सहित विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारियों ने सर्वसम्मति से पहली बार सैन जयंती महोत्सव की संपूर्ण जिम्मेदारी महिलाओं को सौंपी हैं।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

ताज़ा खबर