रोनाल्डो ने किया निराश, उरुग्वे ने पुर्तगाल को 2-1 से हरा दिखाया बाहर का रास्ता

0
64

दो सितारों ने शनिवार को दुनिया की दो बड़े सुपरस्टारों की टीमों को फीफा विश्व कप से बाहर निकालकर सबको चौंका दिया। फ्रांस के 19 वर्ष के कलाइन एमबापे ने दो शानदार गोल दागकर दिन के पहले प्री-क्वार्टर फाइनल में लियोन मेसी की अर्जेंटीना के खिताब जीतने का सपना तोड़ दिया। वहीं, दूसरे प्री-क्वार्टर फाइनल में 31वर्षीय कवानी ने भी दो गोल करके फिस्ट स्टेडियम में क्रिस्टियानो रोनाल्डो की दुनिया की चौथे नंबर की टीम पुर्तगाल को मायूस कर दिया। रोनाल्डो के दम पर खेल रही पुर्तगाली टीम यह मुकाबला दो बार की चैंपियन और 14वें नंबर की उरुग्वे से 1-2 से हार गई। उरुग्वे का क्वार्टर फाइनल में सामना फ्रांस से होगा।

पुर्तगाल के स्ट्राइकरों के सामने उरुग्वे के मजबूत डिफेंस को तोडऩे की चुनौती थी लेकिन वह ऐसा करने में नाकाम रहे। जब भी पुर्तगाली स्ट्राइकर उरुग्वे के किले की तरफ गेंद लेकर आते तो उनके सात डिफेंडर पुर्तगाली टीम के मंसूबों पर पानी भेर देते।

सुआरेज व कवानी की जुगलबंदी : मैच की शुरुआत उरुग्वे के लिए बेहतरीन रही लेकिन सबसे खास उरुग्वे के दो अहम स्ट्राइकर सुआरेज और कवानी के बीच देखने को मिली जिन्होंने मिलकर एक शानदार गोल किया। मैच के सातवें मिनट में सुआरेज ने बॉक्स के बाहर से गोल पोस्ट के पास खड़े कवानी को शानदार पास दिया जिन्होंने हेडर मारकर गेंद को जाली की ओर भेज दिया। उरुग्वे 1-0 से आगे हो गया।

रोनाल्डो ने मौका गंवाया : इस बीच, 32वें मिनट में पुर्तगाल को फ्री किक मिली जिससे उरुग्वे का खेमा बेहद निराश हुआ। फ्री किक पर गोल करने के माहिर रोनाल्डो आए और उन्होंने अपना पूरा अनुभव लगाते हुए शॉट मारा, लेकिन गेंद किले को सुरक्षित करने के लिए दीवार की तरह खड़े उरुग्वे के खिलाडिय़ों से टकराकर वापस आ गई और रोनाल्डो ने टीम को मैच में वापस लाने का मौका गंवा दिया। इस तरह पहला हाफ उरुग्वे अपने नाम करने में सफल रहा।

पेपे ने दी रोनाल्डो को राहत : दूसरे हाफ की शुरुआत से दोनों टीमें आक्रामक रणनीति के साथ खेली। लेकिन 55वें मिनट में एक ऐसा मौका आया जब पुर्तगाली डिफेंडर पेपे ने रोनाल्डो को राहत दी। 55वें मिनट में राफेल ने बायें पैर से गेंद को गोल पोस्ट की ओर हिट किया और उस पर हेडर लेने के लिए आगे रोनाल्डो व पीछे पेपे खड़े थे लेकिन गेंद सीधा पेपे की तरफ आई और उन्होंने हेडर कर दिया जिससे रोक पाना गोलकीपर फर्नांडो के बस में नहीं था।

कवानी ने दिलाई अहम बढ़त : अभी स्कोर 1-1 से बराबर ही हुआ था कि कवानी एक बार फिर चल पढ़े। 62वें मिनट में कवानी ने बॉक्स के बाहर से गेंद पर तेजी से शॉट गोल पोस्ट के बायीं ओर मारकर अपनी टीम को 2-1 की महत्वपूर्ण बढ़त दिलाई। 78वें मिनट में गोल पोस्ट के बाहर उरुग्वे के गोलकीपर आ गए और पुर्तगाल के पास वापसी का सुनहरा मौका था लेकिन बर्नांडो सिल्वा गेंद पर नियंत्रण नहीं कर सके और उनका शॉट पोस्ट के ऊपर से चला गया।

रोनाल्डो यहां छा गए : इस बीच खेल भावना देखने को मिली जब 71वें मिनट में कवानी के बायें पैर में कुछ परेशानी हुई तो विपक्षी कप्तान रोनाल्डो आगे आकर कवानी को कंधे का सहारा देते मैदान से बाहर तक छोड़कर आए। इसके बाद पुर्तगाल वापसी की कोशिश करती रही लेकिन हाथ निराशा ही लगी।

नंबर गेम :

-01 बार ही पुर्तगाली टीम विश्व कप के किसी मैच में हाफ टाइम तक एक गोल से पिछडऩे के बाद मैच जीत पाई। पुर्तगाल ने यह मैच 1966 के सत्र में उत्तर कोरिया के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में जीता था

– 02 बार ही पुर्तगाली टीम विश्व कप में अंतिम-16 से आगे बढ़ पाई है। पुर्तगाल 1966 (तीसरा स्थान) और 2006 (चौथा स्थान) के सत्र में प्री-क्वार्टर फाइनल से आगे खेलने में सफल हुई थी

– 05 गोल विश्व कप में उरुग्वे के लिए एडिनसन कवानी ने दागे। इससे पहले उन्होंने 2010 और 2014 में दो जबकि 2018 में तीन गोल किए हैं

– 01 से ज्यादा विश्व कप में गोल करने के मामले में उरुग्वे के 10वें खिलाड़ी बने कवानी

– 01 गोल उरुग्वे की टीम ने इस विश्व कप में खाया है। टीम ने नवंबर 2017 के बाद कोई गोल खाया

-06 बार उरुग्वे की टीम विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में पहुंची है। जबकि पिछले विश्व कप में टीम अंतिम-16 के दौर से बाहर हो गई थी

– 06 विश्व कप के नॉकआउट मैचों में रोनाल्डो गोल नहीं कर पाए हैं और वह एक बार फिर उरुग्वे के खिलाफ प्री-क्वार्टर फाइनल में गोल करने से रह गए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here