‘रेफरेंडम 2020’ का समर्थन कर घिरे खैहरा, अब दे रहे सफाई, आप का रुख भी कड़ा

0
98

अलग सिख राज्य की मांग को लेकर कट्टरपंथियों के अभियान ‘रेफरेंडम 2020’ का समर्थन करने आप विधायक सुखपाल सिंह खैहरा बुरी तरह घिर गए हैं। चौतरफा हमले के बाद खैहरा अब सफाई दे रहे हैं।

अलग सिख राज्य की मांग को लेकर कट्टरपंथियों की ओर से चलाए जा रहे अभियान ‘रेफरेंडम 2020’ का समर्थन करने पर आप विधायक व विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष सुखपाल सिंह खैहरा बुरी तरह घिर गए हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अरविंद केजरीवाल इस मामले में पार्टी का स्टैंड स्पष्ट करने की मांग की है। वहीं, अकाली दल ने खैहरा के खिलाफ पर्चा दर्ज करने की मांग की है। आम आदमी पार्टी ने भी इस पर कड़ा रुख दिखाया है। आप के राज्य सह-अध्यक्ष डॉ. बलबीर सिंह ने कहा कि पार्टी खैहरा से स्पष्टीकरण मांगेगी। दूसरी अोर, चारों अोर से घिर जाने के बाद खैहरा अब सफाई दे रहे हैं।

कैप्टन, जाखड़ व अकाली दल के तीखे हमलों के चलते बैकफुट पर गए आप नेता

चौतरफा घिरने के बाद खैहरा ने बयान जारी कर कहा, मैं ने कभी अलग सिख राज्य की मांग को लेकर ‘रेफरेंडम 2020′ का समर्थन नहीं किया। मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं है कि आजादी से लेकर सफल सरकारों के पीछे सिखों की कुर्बानियों को कभी नहीं भुलाया जा सकता।’

गौरतलब है कि फरीदकोट जिले के बरगाड़ी में बेअदबी मामले को लेकर चल रहे कट्टरपंथियों के धरने में खैहरा ने ‘रेफरेंडम 2020’ का समर्थन किया था। खैहरा ने कहा कि पंजाब की कीमत पर हिमाचल प्रदेश व हरियाणा को ज्यादा लाभ मिला। 1966 में सिख मोर्चा की ओर से पंजाबी स्पीकिंग स्टेट की मांग उठाई गई, लेकिन उसे लेकर भी न्याय नहीं मिला। पानी के बंटवारे में हरियाणा व राजस्थान को लाभ मिला।

उन्‍होंने कहा, ऑपरेशन ब्लू स्टार, 1984 के सिख दंगे, आपरेशन ब्लू स्टार के बाद विरोध करने वाले सैकड़ों सिख आज भी विदेश में रह रहे हैं। वह अपने देश वापस नहीं आ सकते। खैहरा ने प्रकाश सिंह बादल, सुखबीर सिंह बादल व बिक्रम सिंह मजीठिया को कठघरे में खड़ा किया।

नेता प्रतिपक्ष व विधायक पद से इस्तीफा दें खैहरा: जाखड़

कांग्रेस प्रधान सुनील जाखड़ ने कहा है कि खैहरा को तत्काल प्रभाव से नेता प्रतिपक्ष के पद से हटा देना चाहिए। जाखड़ ने मांग की है कि खैहरा को विधायक पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। अलग सिख राज्य को लेकर खैहरा का बयान संवैधानिक तौर पर गलत है और विधायक के तौर पर ली गई शपथ को तोड़ने वाला है। यह देश की एकता व अखंडता के लिए खतरे की घंटी है। गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के समय केजरीवाल ने भी गर्मख्याली नेता के घर में रुकने के बाद विवादों में आ गए थे।

” खैहरा के बयान के पीछे या तो पार्टी प्रधान अरविंद केजरीवाल का हाथ है या फिर यह उनका व्यक्तिगत बयान हो सकता है। केजरीवाल भी विस चुनाव के दौरान कट्रपंथियों का समर्थन लेने के मामले में बेनकाब हो चुके हैं। आप को इस मामले में अपना स्टैंड स्पष्ट करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here