Published On: Wed, Aug 16th, 2017

महाराष्ट्र HC ने राज्य में बैलगाड़ी दौड़ पर नियमों के बनने तक लगाई रोक

Share This
Tags

(आईबीए):- बॉम्बे हाईकोर्ट ने राज्य में बैलगाड़ी दौड़ के लिए अनुमति देने से महाराष्ट्र सरकार को रोक दिया है। उच्च न्यायालय ने कहा है कि जब तक राज्य सरकार इस पर कानून नहीं बना लेती तब तक राज्य में जलीकट्टू को अनुमति नहीं दी जा सकती है। मुख्य न्यायाधीश मंजुला चेल्लूर और न्यायमूर्ति एन एम जामदार की एक खंडपीठ ने कहा कि जब तक सरकार जानवरों के लिए क्रूरता रोकथाम नियम में संशोधन नहीं लाती है, यह अनुमति नहीं दी जा सकती है। अदालत पुणे के निवासी अजय मराठे द्वारा दायर एक जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जो अपने जिले में आयोजित इस खेल को लेकर की गई थी। इस याचिका में दौड़ पर रोक लगाने की मांग की गई थी।

सरकारी वकील अभीनंद वाज्ञानी ने अदालत से कहा कि मसौदा नियम तैयार हैं और संबंधित लोगों से सुझाव आमंत्रित करने के लिए सरकार की वेबसाइट पर अपलोड कर दिए गए हैं। पीठ ने सरकार को दो सप्ताह के अंदर याचिका के जवाब में अपना हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया है। बता दें कि,महाराष्ट्र विधानसभा ने इस साल अप्रैल में राज्य भर में बैलगाड़ी दौड़ के लिए एक कानून पारित किया था। इससे पहले तमिलनाडु ने अपने ग्रामीण खेल जलिकट्टू को राज्य में नियमित करने के लिए एक कानून बनाया था।

क्रूरता की रोकथाम (महाराष्ट्र संशोधन) विधेयक,जो ग्रामीण महाराष्ट्र में लोकप्रिय खेल बैलगाड़ी दौड़ को 2014 में इस आधार पर प्रतिबंधित किया था कि यह बैलों के लिए पीड़ा देने वाला था। तब राज्य पशुपालन मंत्री महादेव जानकर ने कहा था कि परंपरा और संस्कृति को बनाए रखने और उनकी पीड़ा को देखते हुए पशु अधिनियम के तहत क्रूरता की रोकथाम में संशोधन किया जा रहा है।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

ताज़ा खबर