Published On: Fri, Oct 6th, 2017

बाबा के 700 Cr के कारोबार की हार्ड डिस्क मिली, 4 नपुंसक समर्थकों का भी पता चला

Share This
Tags

सिरसा/चंडीगढ़.साध्वी रेप केस में 20 साल की सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम सिंह के खिलाफ एन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ईडी) ने रेगुलर इंक्वायरी शुरू कर दी है। हरियाणा पुलिस को एक हार्ड डिस्क मिली है, जिसमें बलात्कारी बाबा की 700 करोड़ से ज्यादा की प्रॉपर्टी और हवाला कारोबार की डिटेल्स हैं। ईडी यह हार्ड डिस्क हासिल करेगी। पुलिस रिमांड के दौरान चार ऐसे डेरा समर्थकों का पता चला है, जिन्हें नपुंसक बनाया गया था। इनमें पंचकूला दंगों का मास्टरमाइंड भी शामिल है। बता दें कि बाबा को पंचकूला की सीबीआई कोर्ट ने 25 अगस्त को रेप केस में दोषी करार दिया था। इसके बाद, डेरा समर्थकों ने हिंसा शुरू कर दी, जिसमें करीब 41 लोगों की मौत हो गई थी।

हार्डडिस्क में क्या मिला हरियाणा पुलिस को

– डेरों में रेड के दौरान कई जगह फटे या जले हुए डॉक्यूमेंट्स मिले थे। इसी दौरान पुलिस को एक डेरे के आईटी सेल के साथ लगते लॉकर के पास से हार्डडिस्क मिली। इस हार्डडिस्क को भी डैमेज करने की कोशिश हुई थी, लेकिन ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा था।
– पुलिस ने इस हार्डडिस्क से डाटा निकालने में कामयाबी हासिल की है। इस डिस्क के अंदर हवाला से लेकर बाबा की प्रॉपर्टी और कारोबार की डिटेल्स मौजूद हैं। इसमें यह डाटा भी मौजूद है कि किससे कितनी रकम ली गई। कहां कितने रुपए इन्वेस्ट किए गए। साथ ही हथियारों की जानकारी भी है।
रेगुलर इंक्वायरी होती है एफआईआर की तर्ज पर
– ईडी किसी भी मामले में पहले रेगुलर इंक्वायरी शुरू करता है। इस डिपार्टमेंट की गाइडलाइंस के तहत इसे एफआईआर की तर्ज पर ही माना जाता है। ईडी ने कई दस्तावेजों को जमा किया है। पूरे हरियाणा में अलग-अलग डिपार्टमेंट्स से डॉॅक्यूमेंट्स जुटाए गए हैं। ये डॉक्यूमेंट्स प्रॉपर्टी से लेकर हवाला से जुड़े बताए जा रहे हैं।
पंचकूला में दंगा कराने के मास्टरमाइंड समेत चार को बाबा ने बनाया था नपुंसक
– पंचकूला में दंगों के बाद पुलिस रिमांड के दौरान चार ऐसे डेरा समर्थकों का पता चला है, जिन्हें नपुंसक बनाया गया था। इनमें पंचकूला दंगों का मास्टरमाइंड भी शामिल है। नपुंसक बनाने की पुष्टि इन चारों की
मेडिकल रिपोर्ट और कबूलनामे से हुई है। साल 2000 से 2005 के बीच डेरे में 400 समर्थकों को नपुंसक बनाने का मामला सामने आया था। आरोप लगे थे कि बाबा करीबियों को ही नपुंसक बनाता था। इन केसों की जांच सीबीआई कर रही है।
– हरियाणा पुलिस के डीजीपी ने सीबीआई को इस बारे में जानकारी दे दी है। शुक्रवार तक सभी डॉक्यूमट्सें पूरे होने पर इन लोगों की लिस्ट, मेडिकल रिपोर्ट और कबूलनामे सीबीआई को दिए जाएंगे। इन चारों को सीबीआई के हवाले भी किया जा सकता है। सीबीआई इन्हें बतौर गवाह पेश कर सकती है।
इस रिपोर्ट में क्या है?
– चारों का नाम, एड्रेस, कब नपुंसक बनाया
– कबूलनामा-चारों ने बताया कि उन्होंने डेरा प्रमुख के कहने पर ही सिरसा में नपुंसक बनने का ऑपरेशन करवाया था।
– कौन हैं ये चार: इन चारों डेरा समर्थकों को एसआईटी ने दंगा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया था। इनमें पंचकूला में दंगा करवाने की पहली मीटिंग (17 अगस्त) और 25 अगस्त को मौके पर दंगा भड़काने वाले शामिल हैं।

बाबा गुरमीत राम रहीम को किस रेप केस में हुई सजा, क्या है पूरा मामला?

– 2002 में एक साध्वी ने गुमनाम चिट्ठी लिखी। इसमें बताया गया था कि कैसे डेरा सच्चा सौदा के अंदर लड़कियों का सेक्शुअल हैरेसमेंट होता था। यह चिट्ठी पंजाब और हरियाणा कोर्ट को भी भेजी गई थी। इसके बाद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के खिलाफ यौन शोषण का केस शुरू हुआ। सीबीआई ने जांच शुरू की। 15 साल बाद सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने गुरमीत राम रहीम सिंह को दोषी करार दिया।
– माना जाता है कि ये चिट्ठी राम रहीम के 20 साल ड्राइवर रहे रणजीत सिंह की बहन ने लिखी थी। बाद में रणजीत का मर्डर हो गया था। इसका शक भी बाबा समर्थकों पर जताया गया। यह केस भी पंचकुला की सीबीआई अदालत में चल रहा है।
– दो साध्वियों के रेप केस में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम को CBI की स्पेशल कोर्ट ने 10-10 साल की सजा सुनाई। यानी डेरा चीफ को कुल 20 साल जेल में गुजारने होंगे। कोर्ट ने राम रहीम पर कुल 30 लाख रुपए का जुर्माना लगाया। इसमें 15-15 लाख रुपए का जुर्माना दो रेप केस के लिए है। 14-14 लाख रुपए दोनों रेप विक्टिम साध्वियों को हर्जाने के रूप में देने होंगे। सजा सुनाए जाने पर राम रहीम कोर्ट रूम में फूट-फूटकर रोने लगा।
– सजा के खिलाफ डेरा सच्चा सौदा हाईकोर्ट में अपील करेगा। बता दें कि यह रेप केस 15 साल चला था।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

ताज़ा खबर