झारखंड विस उपचुनावः गोमिया व सिल्ली में मतदान जारी, जानें-कहां कितना हुआ मतदान

0
409

रांची, जेएनएन। झारखंड में गोमिया और सिल्ली विधानसभा उपचुनाव के लिए सुबह सात बजे से कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान जारी है। मतदान की प्रक्रिया अपरान्ह तीन बजे तक जारी रहेगी। अब तक गोमिया में 33.64 और सिल्ली में 28 फीसद मतदान हुआ है। चुनाव परिणाम 31 मई को आएंगे।

कड़ी सुरक्षा के बीच सुबह सात बजे से गोमिया विस क्षेत्र के कुल 341 बूथों में मतदान की प्रक्रिया शुरू हुई। कहीं-कहीं ईवीएम में खराबी की वजह से मतदान शुरू नहीं हो सका है। गोमिया के बूथ नंबर 70 में ईवीएम की खराबी से मतदान चालू नहीं सका है। मतदान केंद्रों में वोटरों की कतार लगने लगी है। नक्सल प्रभावित झुमरा पहाड़ क्षेत्रों में भी मतदाताओं में वोट देने को लेकर उत्साह है। कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में लोकतंत्र के महापर्व को लेकर लोगों में उत्साह दिख रहा है।

वहीं, सिल्ली में करीब आधा दर्जन मतदान केंद्रों पर ईवीएम बदलनी पड़ी।

मुरी में एसडीओ ने मतदान केंद्र के बाहर मजमा लगाकर बैठे लोगों को पीटकर- डराकर भगाया। विजय साहू, जावेद अंसारी, वरुण कुमार, महावीर मुंडा, सुभाष महतो को पुलिस उठाकर ले गई।

सिल्ली में जेएमएम प्रत्याशी सीमा देवी ने अपने ग्राम पोगडा में मतदान किया। 

गोमिया के 2,68,047 तथा सिल्ली के 1,95,015 मतदाता 619 मतदान केंद्रों पर अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं। दोनों ही विधानसभा क्षेत्रों में 25,441 मतदाता ऐसे हैं, जो पहली बार वोट दे रहे हैं। अपराह्न तीन बजे मतदान प्रक्रिया चलेगी। सिल्ली में 10 तथा गोमिया में 13 प्रत्याशी चुनाव मैदान में खड़े हैं। एहतियात के तौर पर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। मतदान के लिए इस्तेमाल किए जानेवाले ईवीएम में चुनाव मैदान में खड़े सभी प्रत्याशियों के फोटो लगे होंगे।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एल. खियांग्ते के अनुसार पहली बार सभी बूथों पर ईवीएम मशीनों में वीवीपैट (वोटर वेरीफिएवल पेपर आडिट ट्रायल) का भी इस्तेमाल होगा। इस प्रक्रिया के तहत एक पर्ची निकलेगी, जिससे मतदाता आश्वस्त हो पाएंगे कि उन्होंने जिसे वोट दिया है, वास्तव में उसे पड़ा है या नहीं। सात सेकंड तक इसे देखा जा सकेगा। उन्होंने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग ने मतगणना में भी वीवीपैट के इस्तेमाल की नसीहत दी है। इससे दोनों सीटों पर एक निश्चित बूथों पर पड़े वोटों का मिलान किया जा सकेगा।

आदर्श मतदान केंद्र जोन्हा में मतदान के लिए खड़े लोग।

इनकी प्रतिष्ठा दांव पर
आयोग मतगणना के दिन ही यह बताएगा। इधर, चुनाव के मद्देनजर दोनों विधानसभा क्षेत्रों के सरकारी और निजी कार्यालयों में अवकाश की घोषणा की गई है। इस चुनाव में आजसू प्रमुख पूर्व उपमुख्यमंत्री सुदेश महतो, भाजपा के माधव लाल सिंह, आजसू के लंबोदर महतो की प्रतिष्ठा दांव पर है। विधानसभा की अपनी सदस्यता खोनेवाले झामुमो के योगेंद्र प्रसाद तथा अमित महतो के भाग्य का भी फैसला यह चुनाव करेगा। बहरहाल, चुनावी जंग में दोनों की पत्नियां चुनाव मैदान में हैं।

संवेदनशील बूथों पर पारा मिलिट्री फोर्स तैनात

सिल्ली विधानसभा में उपचुनाव को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए रांची पुलिस ने तैयारी पूरी कर ली है। उपचुनाव के मद्देनजर बूथों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी को तैनात किया गया है। अतिसंवेदनशील व संवेदनशील बूथों पर पारा मिलिट्री फोर्स को तैनात है। जबकि, सामान्य बूथों पर जिला पुलिस के जवान तैनात हैं। सुरक्षा की दृष्टिकोण से करीब पांच हजार जवानों को तैनात किया गया है।

सुदेश महतो और उनकी पत्नी नेहा महतो ने सिल्ली लगाम बूथ में मतदान किया। 

चुनाव परिणाम से अधिक साख की चिंता
गोमिया तथा सिल्ली विधानसभा उपचुनाव में परिणाम से अधिक साख बचाने की चिंता है।

गोमिया में इनके बीच टक्कर
आजसू के लंबोदर महतो, झामुमो की बबीता देवी, भाजपा के माधव लाल सिंह, झामुमो उलगुलान के उमेश महतो, लोक जन विकास मोर्चा की जूली देवी, झारखंड दिशोम पार्टी के देवनारायण मुमरू, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के मो. सुल्तान, निर्दलीय खुदीराम महतो, गौतम तिवारी, टेकचंद महतो, धनंजय कुमार प्रजापति, निखिल कुमार सोरेन, हेमलाल महतो।

सिल्ली में इनकी प्रतिष्ठा दांव पर
सिल्ली में सुदेश महतो (आजसू), सीमा देवी (झामुमो) के अलावा लोक समता पार्टी के ज्योति प्रसाद, जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के संजय प्रसाद यादव, झारखंड दिशोम पार्टी के सीताराम मुंडा, निर्दलीय अमित सिंह मुंडा, दीपक कुमार मांझी, धनपति महतो, लालचन महतो, सीमा देवी।

चुनाव परिणाम से अधिक साख बचाने की चिंता
उपचुनाव को लेकर पिछले एक माह से राजनीतिक दलों द्वारा बहाए जा रहे पसीने और रणनीति परीक्षा की घड़ी आ गई है। इन दोनों ही सीटों को लेकर बिखरे हुए सत्ता पक्ष और एकजुट विपक्ष की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। चिंता परिणाम से अधिक साख की है। उपचुनाव के परिणाम से झारखंड विधानसभा का गणित बेअसर रहेगा लेकिन परिणाम से जाने वाला मैसेज बेहद अहम होगा। दोनों ही सीटों पर विपक्ष ने साझा प्रत्याशी के तौर पर बबिता देवी और सीमा महतो को उतारा है। विपक्ष की एकजुटता की यह पहली बड़ी परीक्षा है। पिछले विधानसभा चुनाव में झामुमो ने अपने बूते दोनों ही सीटों पर जीत दर्ज की थी, इस बार पूरा विपक्ष साथ है। यदि परिणाम अनुकूल नहीं आए तो कर्नाटक से उठी विपक्षी एकजुटता की मुहिम को झटका लग सकता है, जिसक संदेश दिल्ली तक जाएगा।

आजसू ने सिल्ली और गोमिया सीटों से अपने उम्मीदवार उतारे हैं। आजसू प्रमुख सुदेश महतो सिल्ली से चुनाव लड़ रहे हैं जबकि गोमिया से लंबोदर महतो। आजसू दोनों ही सीटों पर वजूद की लड़ाई लड़ रही है। वहीं, भाजपा ने गठबंधन धर्म का पालन करते हुए सिर्फ गोमिया से माधवलाल को उतारा है और मुख्यमंत्री रघुवर दास समेत पूरी टीम भाजपा ने अपने प्रत्याशी के लिए जमकर प्रचार किया है।

जानें, पिछले चुनाव में किसे मिले कितने मत
गोमिया
-योगेंद्र प्रसाद (झामुमो) : 97799 (55.25 फीसद मत)
-माधव लाल (भाजपा) : 60285 (34.06 फीसद मत)
-विमल कुमार (कांग्रेस): 3826 (2.16 फीसद मत)

सिल्लीः
-अमित कुमार (झामुमो) : 79747 (55.71 फीसद मत)
-सुदेश कुमार महतो (आजसू) : 50007 (34.93 फीसद मत)
-रंगोवती देवी (सीपीएम) : 3279 (2.29 फीसद मत)

पिछले चुनाव में मतदान का प्रतिशत

सीट 2009 विस चुनाव 2014 लोस चुनाव 2014

विस चुनाव गोमिया 63.47 63.88 69.62

सिल्ली 69.80 72.81 77.61

मतदाताओं पर एक नजर

सीट कुल मतदाता पुरुष मतदाता महिला मतदाता

मतदान केंद्र गोमिया 2,68,047 1,41,902 1,26,142 341

सिल्ली 1,95,015 99,432 95,582 278

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here