Published On: Wed, Sep 20th, 2017

जानिए क्या है शरद नवरात्रि और विजयादशमी के पर्व का महत्व, शुभ मुहूर्त और तिथि

Share This
Tags

(आईबीए):-इस साल नवरात्रि 21 सितंबर से शुरू होकर 29 सितंबर तक चलेंगे. शरद नवरात्रि 9 दिनों तक चलने वाला पर्व है जिसमें देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है. नवरात्रि का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शता है. हिन्दू कैलेंडर के अनुसार नवरात्रि अश्विन महीने में आते हैं. नवरात्रि के दौरान शक्ति, धन, समृद्धि और ज्ञान की प्राप्ति के लिए देवी दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है. देवी का आशीर्वाद उनपर बना रहे इसके लिए कुछ लोग इन दिनों नौ दिन का उपवास करते हैं. कुछ लोग शरद नवरात्रि के पहले और आखिरी दिन व्रत रखना पसंद करते हैं.

दुर्गा पूजा का त्योहार देवी दुर्गा और राक्षस महिषासुर के बीच हुए युद्ध का प्रतीक है, यह पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है. राक्षस महिषासुर ने कई वर्षो तक तपस्या और प्रार्थना कर भगवान ब्रह्मा से अमर होने का वरदान मांगा. महिषासुर की भक्ति से प्रसन्न होकर ब्रह्मा जी ने उसे कई वरदान दिए लेकिन भगवान ब्रह्मा ने महिषासुर को अमर होने के वरदान की जगह यह वरदान दिया कि उसकी मृत्यु एक स्त्री के हाथों होगी. ब्रह्मा जी से यह वरदान पाकर महिषासुर काफी खुश हो गया और सोचने लगा की किसी भी स्त्री में इतनी ताकत नहीं है जो उसके प्राण ले सकें.

इस साल दशहरा 30 सितंबर (शनिवार) को मनाया जाएगा. दशमी तिथि की शुरूआत 29 सितंबर रात 11 बजकर 49 मिनट से शुरू होकर 1 अक्टूबर रात 1 बजकर 35 मिनट तक रहेगी.

विजय मुहूर्त समय 2:08 बजे से दोपहर 2:55 बजे तक है
अपराह्न पूजा समय 1:21 से 3:42 बजे तक है

भारत में कोई भी त्योहार मिठाई के बिना अधूरा माना जाता है. दशहरे के मौके पर भी लड्डू, बर्फी, रसगुल्ला, खीर, हलवा जैसी ढेर सारी स्वादिष्ट और पारंपरिक मिठाईयों का मजा लिया जाता है.

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

ताज़ा खबर