उद्घाटन के 3 घंटे के भीतर ईस्टर्न पैरिफरल हाइवे से गुजरे 5 हजार वाहन, दिल्ली में जाम से मिलेगा छुटकारा

0
152

 

11 हजार करोड़ रुपये की लागत से बने इस एक्सप्रेस के बाद दिल्ली की सड़कों जाम की समस्या का कुछ हद तक निवारण हो सकेगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को ईस्टर्न पेरिफरल एक्सप्रेस वे का उद्घाटन किया। आम लोगों के खुलने के तीन घंटे के भीतर इस एक्सप्रेस वे से 5 हजार वाहन गुजरे। 135 किलोमीटर लंबे इस रोड को 11 हजार करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। इस एक्सप्रेस वे के बन जाने से दिल्ली के अंदर से गुजरने वाले एक तिहाई वाहन अब सीधे दिल्ली के बाहर से जा सकेंगे। इससे दिल्ली वासियों को प्रदूषण और जाम जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।

प्रारंभिक रिपोर्ट के मुताबिक, हाइवे को शुरू होते ही तीन घंटों के भीतर 5,000 से ज्यादा वाहन गुजरे हैं। एक अधिकारी के मुताबिक आने वाले 2-3 दिनों में ये संख्या 50 हजार से पार होने की उम्मीद है। दिल्ली की सीमाओं पर पुलिस अधिकारी तैनात किए गए हैं जो वाहनों को इस एक्सप्रेस वे पर भेजेंगे। पहले 15 दिनों तक इस हाइवे पर किसी तरह का टोल नहीं वसूला जाएगा।

इसका उद्घाटन करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इससे ट्रैवल टाइम, फ्यूल कंजम्शन और दिल्ली में वायु प्रदूषण घटेगा। वहीं नितिन गडकरी ने कहा कि हमारे लिए 500 दिनों में ये एक्सप्रेस वे बनाना एक बड़ी चुनौती थी। इस प्रोजेक्ट को नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद शुरू किया था।

इस एक्सप्रेस वे ट्रैफिक मूवमेंट को रेगुलेट करना और वाहन चालकों को ट्रैफिक नियमों का पालन करवाना NHAI के लिए चुनौती भरा काम होगा। इसके लिए NHAI ने एक्सप्रेस वे पर 6 इंसिडेट मैनेजमेंट व्हीकल, 6 एंबुलेंस और 6 क्रेन को तैनात किया है।

NHAI के पूर्व जनरल मैनेजर संजीव कुलश्रेष्ठ ने कहा, “हमें इस प्रोजेक्ट से सीख लेने की जरुरत इसलिए है कि किसी प्रोजेक्ट में देरी होने से अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान होता है। अगर पहले की सरकारों ने इस पर तेजी से काम किया होता तो काफी फायदा हो सकता था। अगर हम किसी प्रोजेक्ट में हुई देरी के दौरान की ईंधन की कीमत, टाइम वेस्टेज और एक्सीडेंट में गई लोगों की जानें जोड़ दें तो ये एक बड़ा नुकसान होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here